Breaking News

5/recent/ticker-posts

AK-203 भारत में बनेगी , रूस से समझौता हुआ , जानिए भारत में कहाँ बनेगी और रायफल की खासियत,पढ़िए इस रिपोर्ट में

 



नई दिल्ली :  भारत और रूस के बीच AK 203 रायफल की खरीद का समझौता हो गया है | रक्षा मंत्री राजनाथ के मॉस्को दौरे पर इस डील पर मुहर लग गई है | AK-203 रायफल AK-47 का एडवांस्ड वर्जन है | भारतीय सेना को 7 लाख 70 हज़ार AK-203 रायफल की ज़रूरत है | इनमें से 1 लाख AK-203 रायफल रूस से आयात की जाएंगी | गुरुवार को राजनाथ सिंह ने रूसी रक्षा मंत्री से मुलाकात की | इस दौरान दोनों देशों के बीच कई अहम मसलों पर समझौता हुआ | साथ ही रूस की बेहतरीन AK-203 रायफल को अब भारत में बनाया जाएगा, जिसको लेकर दोनों देशों में बात आगे बढ़ गई है | 




जनरल शोइगू ने अगले साल फरवरी में होने वाली आगामी एयरो इंडिया प्रदर्शनी में पर्याप्त भागीदारी सहित 'मेक-इन-इंडिया' कार्यक्रम की सफलता सुनिश्चित करने के लिए हमारे एमओडी के साथ सक्रिय रूप से जुड़ने के लिए रूसी पक्ष की प्रतिबद्धता दोहराई। 



रूसी रक्षा मंत्री सर्गी शोइगू ने भारत के "मेक इन इंडिया" प्रोग्राम का समर्थन किया और रूस की ओर से हर संभव मदद का भरोसा दिया | साथ ही रूस को भारत के आत्मनिर्भर भारत की जानकारी भी दी गई, जिसके बाद भारत में AK-203 असॉल्ट रायफल बनाने पर बात आगे बढ़ी | 




आपको बता दें कि AK-203 रायफल, AK-47 का नेक्स्ट मॉडल है | अगर भारतीय सेना में इसकी एंट्री होती है, तो ये इनसास(INSAS) की जगह लेगा | अपनी शत प्रतिशत सफलता के लिए मशहूर AK-203, कंटवर्टेबल रायफल है | इसे सैमी ऑटोमेटिक और ऑटोमैटिक तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है | AK-47 सबसे बेसिक मॉडल है इसके बाद AK में 74, 56, 100 सीरीज, 200 सीरीज आ चुकी है | 





रोचक तथ्य 

AK-203 पुरानी AK-47 का NEW अपग्रेड वर्शन है |  AK 47 का पूरा नाम Automatic Kalashnikov(कलाश्निकोव) 47 है, इस राइफल का निर्माण वर्ष 1947 में शुरु हुआ था | और इसका नाम Mikhail (मिखाइल) Kalashnikov (कलाश्निकोव) के नाम पर पड़ा था, जिन्होंने इस रायफल को डिज़ाइन किया था | 

भारत में कहाँ बनेगी AK-203 रायफल ?  

समझौते के तहत भारत और रूस मिलकर उत्तर प्रदेश के अमेठी में एके सीरीज़ की सबसे आधुनिक राइफल बनाएंगे | कुछ वक्त पहले पीएम मोदी ने इस योजना की शुरुआत की थी, लेकिन रूस के साथ कीमतों को लेकर मामला अटका था | अब रक्षा मंत्रियों की बातचीत में संकेत मिले हैं, तो ये निर्माण की योजना आगे बढ़ सकती है | Make In India के तहत यहां साढ़े सात लाख राइफलें बनाई जाएंगी | रूस के फेडरल मिलिट्री Cooperation के डायरेक्टर दिमित्री सुगायेव कहते हैं कि "AK-203 से हमें ज्यादा सफलता मिलेगी |" यह दूसरी रायफलों से अलग है | भारत ऐसा पहला देश है जिसके साथ मिलकर Kalashnikov रायफल बनाई जाएंगी |

Post a Comment

0 Comments