Breaking News

5/recent/ticker-posts

JEE MAIN: कैसा था इस बार JEE का पेपर ? स्टूडेंट्स रिएक्शन





जेईई MAIN  की शुरुआत हो चुकी है। पहले दिन देशभर में सिर्फ पेपर-2 (बीआर्क व बीप्लानिंग) की परीक्षाएं हुईं। बीटेक की प्रवेश परीक्षा बुधवार, 2 सितंबर से शुरू होगी, जो 6 सितंबर तक चलेगी।

स्टूडेंट्स का क्या कहना है ?

1. स्टूडेंट्स ने बताया कि पहले शिफ्ट के लिए परीक्षा केंद्रों पर सुबह 7 बजे से एंट्री शुरू कर दी गई थी। जबकि परीक्षा ठीक 9 बजे शुरू कर दी गई। पेपर-2 के लिए स्टूडेंट्स को सिर्फ पेंसिल बॉक्स (ड्रॉइंग के लिए), एडमिट कार्ड, आधार कार्ड (फोटो आईडी प्रूफ) और पारदर्शी वॉटर बॉटल ले जाने की ही अनुमति थी। बॉल प्वाइंट पेन परीक्षा केंद्रों के अंदर ही दिया गया। टाइम क्लॉक भी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिया गया था।

2. कोविड-19 से एहतियात के तहत एंट्री गेट पर बायोमेट्रिक अटेंडेंस नहीं लिया गया। एग्जाम हॉल में पर्यवेक्षक एक ऑरेंज टैब लेकर आए, स्टूडेंट की फोटो क्लिक की और दूर से ही एडमिट कार्ड स्कैन किया। फर्स्ट शिफ्ट वाले स्टूडेंट्स को दूसरे शिफ्ट के लिए रिजर्व कुर्सियां छूने की भी अनुमति नहीं थी।

3. हर स्टूडेंट को परीक्षा केंद्रों के बाहर रखे सैनिटाइजिंग स्टेशन से खुद को सैनिटाइज करके ही अंदर जाना था। स्टूडेंट्स जो मास्क घर से पहनकर आए थे, उसे हटाकर उन्हें केंद्रों पर दिया जाने वाला सर्जिकल मास्क पहनना अनिवार्य था। हर किसी की पूरी जांच मेटल डिटेक्टर मशीनों से ही की गई। किसी तरह का बैग या घड़ी ले जाना प्रतिबंधित था


पेपर-2: एनालिसिस व पैटर्न

पार्ट-1 (मैथ्स): 
इस सेक्शन में कुल 25 सवाल थे। 20 मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस (MCQ) जिसमें एक सही जवाब मार्क करना था और 5 न्यूमेरिकल क्वेश्चंस(QUESTIONS) थे। मल्टीपल च्वाइस(MCQ) के लिए सही जवाब पर +4 अंक, गलत पर -1 और अटेंप्ट(ATTEMPT) न करने पर 0 अंक थे। वहीं न्यूमेरिकल के लिए सही जवाब पर +4, और गलत या अटेंप्ट न करने पर 0 अंक थे। यह सेक्शन कुल 100 अंकों का था।

पार्ट-2 (एप्टीट्यूड) APTITUDE:
इस सेक्शन में कुल 50 सवाल थे। सभी मल्टीपल च्वाइस सवाल थे, जिसमें एक सही जवाब चुनना था। सही जवाब पर +4 अंक, गलत पर -1 और अटेंप्ट न करने पर 0 अंक थे। सेक्शन कुल 200 अंकों का था।

पार्ट-3 (प्लानिंग): 
इसमें दो सवाल थे। हर सवाल 50 अंकों का था। कुल अंक 100 थे।


कैसा था गणित का सेक्शन ?

स्टूडेंट्स का कहना था कि जनवरी की परीक्षा की तुलना में इस बार पेपर-2 ओवरऑल आसान था। पेपर में कोई गलती नहीं पाई गई। हालांकि मैथ्स सेक्शन में न्यूमेरिकल के सवाल जनवरी की तुलना में थोड़े जटिल थे। ज्यादा कैलकुलेशन की जरूरत थी। कैलकुलस और को-ऑर्डिनेट ज्योमेट्री के चैप्टर्स से सवाल पूछे गए थे।

गणित में कुल 25 प्रश्न थे | सेक्शन 1 में 20 मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन थे | वहीं, पांच न्यूमेरिकल बेस्ड क्वेश्चन थे | छात्रों का कहना है गणित सेक्शन अन्य सेक्शन की तुलना में मुश्किल था | B-Planning की परीक्षा तीन भागों में आयोजित की गई थी | गणित, एप्टीट्यूड टेस्ट, प्लानिंग | 

जेईई मेन पेपर-2 के लिए उपस्थित होने वाले छात्रों की प्रतिक्रिया के आधार पर, पेपर में मुख्य रूप से NCERT पैटर्न का पालन किया गया था | जिन छात्रों ने अपने प्लस 2 बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी तरह से पढ़ाई की है, उनके लिए पेपर सॉल्व करना आसान था |   


Post a Comment

0 Comments