Breaking News

5/recent/ticker-posts

LIVE: लोकसभा में चीन मुद्दे पर बोले राजनाथ सिंह- हम सभी परिस्थितियों से निपटने को तैयार



देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह LAC के ताजा हालात पर लोकसभा में बयान दे रहे हैं। सोमवार से कोरोना महामारी के बीच संसद के मानसून सत्र की शुरुआत हुई थी। पहले दिन लोकसभा की कार्यवाही को मंगलवार को दोपहर तीन बजे तक के लिए और राज्यसभा की कार्यवाही को सुबह नौ बजे तक के लिए स्थगित दिया गया था। अब फिर से लोकसभा में कार्यवाही शुरू हो चुकी है।

राजनाथ सिंह की महत्वपूर्ण बातें :-
- राजनाथ सिंह ने लोकसभा में कहा कि मैं सभी सदस्यों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हम किसी भी परस्थितियों से निपटने के लिए तैयार हैं।

- राजनाथ सिंह ने कहा, 'मैं सदन से यह अनुरोध करता हूं कि हमारे दिलेरों की वीरता एवं बहादुरी की भूरि-भूरि प्रशंसा करने में मेरा साथ दें।  हमारे बहादुर जवान अत्यंत मुश्किल परिस्थतियों में अपने अथक प्रयास से समस्त देशवासियों को सुरक्षित रख रहे हैं।'

- लोकसभा में राजनाथ सिंह ने कहा, 'सरकार ने पिछले कुछ हफ्तों में सीमा पर इंफ्रास्ट्रचर को तवज्जो दी है। पिछले कुछ समय में चीन के जवानों की संख्या सीमा पर बढ़ी है।'

- संसद में राजनाथ सिंह ने कहा- दोनों पक्षों को LAC का सम्मान और कड़ाई से पालन करना चाहिए। किसी भी पक्ष को अपनी तरफ से यथास्थिति का उल्लंघन करने का प्रयास नहीं करना चाहिए। इसके अलावा, दोनों पक्षों के बीच सभी समझौतों का पालन होना चाहिए।

- राजनाथ सिंह ने कहा कि 15 जून को चीनी सेना ने गलवान घाटी में हिंसक झड़प की। हमारे बहादुर सेना के जवानों ने अपनी जान का बलिदान किया और चीनी सेना के जवानों को भी काफी क्षति पहुंचाई है।

- राजनाथ सिंह ने कहा कि अप्रैल महीने से पूर्वी लद्दाख में चीनी सेनाओं में काफी वृद्धि देखी गई। इसके बाद मई महीने में गलवान घाटी में आमना-सामना हुआ। चीन द्वारा मई महीने के मध्य में पश्चिमी लद्दाख के कई क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश की थी। हमने चीन से कूटनीतिक और सैन्य बातचीत के जरिए से साफ करा दिया कि यह एकतरफा सीमा को बदलने की कोशिश है और हमें यह मंजूर नहीं है।

- रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में कहा कि चीन सीमा मुद्दा एक जटिल मुद्दा है। इसका शांतिपूर्ण बातचीत से ही हल संभव है।



Post a Comment

0 Comments