Breaking News

5/recent/ticker-posts

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बिहार के पेट्रोलियम क्षेत्र से जुड़ी तीन परियोजनाओं को देश को समर्पित करेंगे, तीन परियोजनाएं निम्न हैं



बिहार विधान सभा चुनाव से पहले केंद्रीय योजनाओं की सौगात दे रही केन्द्र की नरेन्द्र मोदी की सरकार रविवार को एक बार फिर बिहार को 901 करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात देगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 13 सितम्बर को पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस की बिहार से जुड़ी 901 करोड़ रुपए की तीन योजनाओं का शुभारंभ करेंगे। 


बिहार के पेट्रोलियम क्षेत्र से जुड़ी तीन परियोजनाएं निम्न हैं :-

1. राज्य के स्वामित्व वाली इंडियन ऑयल कॉर्प (आईओसी) द्वारा निर्मित 193 किलोमीटर लंबी दुर्गापुर-बांका पाइपलाइन खंड को भी राष्ट्र को सौंपा जाएगा। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस परियोजना को देश को समर्पित करेंगे।
सभा को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भी संबोधित करेंगे। 
जानकारी के अनुसार पारादीप- हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन के दुर्गापुर-बांका खंड के 634 करोड़ रुपए की लागत से बनी 193 किलोमीटर लम्बी पाइपलाइन का उद्घाटन होगा।

2. बांका में ही 131 करोड़ की लागत से एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का उद्घाटन होगा। इस कार्यक्रम के लिए बांका के प्रभारी मंत्री, स्थानीय विधायक व विधान पार्षदों को आमंत्रण दिया गया है। इंडियन ऑयल का यह एलपीजी बॉटलिंग प्लांट बिहार के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। यह परियोजना लगभग 131.75 करोड़ की लागत से तैयार हुई है। इसके शुरू होने से बिहार के भागलपुर, बांका, जमुई, अररिया, किशनगंज और कटिहार जिलों के लोगों को फायदा मिलेगा।इसके साथ ही झारखंड के गोड्डा, देवघर, दुमका, साहिबगंज और पाकुर के लोगों के लिए भी फायदेमंद साबित होगा। इस प्लांट की क्षमता 40 हजार सिलिंडर प्रतिदिन की होगी। 

3. चंपारण के हरसिद्धि में स्थित बॉटलिंग प्लांट को 136.4 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है।
इस कार्यक्रम के लिए बांका के प्रभारी मंत्री, स्थानीय विधायक व विधान पार्षदों को आमंत्रण दिया गया है।  136 करोड़ रुपए की लागत से पूर्वी चम्पारण के सुगौली में न्यू एलपीजी प्लांट का भी शुभारंभ होगा। इसके लिए पूर्वी चम्पारण के प्रभारी मंत्री, एनडीए के स्थानीय विधायक व विधान पार्षद को आमंत्रण दिया गया है।      
इसे भी 13 सितंबर को राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। इसकी नींव 10 अप्रैल 2018 को रखी गई थी। इस बॉटलिंग प्लांट से पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, मुजफ्फरपुर, सिवान, गोपालगंज और सीतामढ़ी जिलों के लोगों को लाभ पहुंचेगा।

Post a Comment

0 Comments